INDIA Blogger

Monday, November 16, 2009

२२ जनवरी २००९ से १५ नवम्बर २००९ तक .......

ये क्या हुआ ......ये क्या हुआ ............ये क्या हुआ .........

अरे यार फैज़ आज क्या हुआ जो तुम ये गाना गा रहे हो (मेरे कैमरे ने मुझसे पूछा )॥अरे तुम को नही मालूम । तो सुनो राजनीति का बहुप्र्तिछित फैसला आज आ गया जिसका समाजवादी पार्टी के विपक्छी दल को बेसब्री से इंतज़ार था । .....अरे फैज़ कुछ विस्तार से बताओगे आख़िर हुआ क्या ??? अरे होना क्या था आज समाजवादी पार्टी के राष्ट्रिय महासचिव राजबीर सिंह ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया । जिसके साथ ही मुलायम सिंह यादव और कल्याण सिंह की १० महीने की दोस्ती पर फुल स्टाप लग गया । अब ये दोनों एक मंच पर गलबहियाँ डाले नही नज़र आयेंगे । मुलायमसिंह ना तो कल्याण सिंह जिंदाबाद के नारे लगायेंगे और नाही कल्याण सिंह उन्हें आपने मित्र बताएँगे । अब तो आरोप प्रत्यारोप का सिलसिला शुरू होगा वो उन्हें दोषी कहेंगे और वो उन्हें ।ये बात किसी से नही छुपी की समाजवादी पार्टी के एक समुदाये विशेष के वोटो पर कल्याण सिंह के आने से विपरीत प्रभाव पड़ा और पार्टी की यह दशा हुई, जिसका सीधा उदाह्रद फिरोजाबाद उपचुनाव में मुलायम सिंह की पुत्रवधू की हार है साथ ही कही भी उसके प्रत्याशी का न जीत पाना ,और लोक सभा चुनावों में सिर्फ़ २३ सीते पाना वो भी सत्ता में रहते हुए । पर कल्याण सिंह जी तो अलग ही राग अलाप रहे है की अगर मे और मेरा बेटा न रहे होते तो उन्हें सिर्फ़ १४ सीटों से संतोष करना पड़ता ९ सीटों पर तो मैंने ही जीत दिलाई है । और तो और हम ख़ुद नही गए थे उनके यहाँ पर वो ख़ुद आए थे हमारे पास ......

मई तो यहाँ यही कहूँगा की "चूहे ने फसल ख़राब कर दी"क्योंकि समाजवादी पार्टी के वोट बैंक में सेंध तो लग ही चुकी है .....अब मुलायम सिंह जी क्या करेंगे.........

1 comment:

हरिओम दास अरुण said...

बहुत ही अच्छी कोशिश है. यूँ ही लिखते रहें.