INDIA Blogger

Monday, March 15, 2010

"भारतीय सिनेमा जगत के पोस्टर- बदलता चेहरा भाग २ "

राउं लोगन के राम राम आप सब इ सोचत होइए की इ का इ तो भोजपुरी बोले लगन बाकि बात इ है की आज हमनी भोजपुरी की बात करल जाई त ....ठीक है तो सुनिए मेरा कैमरा जब भोजपुरी फिल्मो के बारे में बता रहा था तो वो मुझसे भोजपुरी में ही बात कर रहा था सो मैंने भी सोचा ........

२- जहाँ तक भोजपुरी पोस्टरों की बात है तो सब जानते है की भोजपुरी की ज़बरदस्त "फिल्म नदिया के पार "पर इसका पोस्टर बड़ा ही सादा था सिर्फ पोस्टर में सचिन जी और उनकी को स्टार ही जगह पा पाए थे । आज कल के पोस्टर की बात करे तो भोजपुरी भाषा के पोस्टर में बहुत कुछ इनकार्पोरेट करना पड़ता है । तीन-चार पेज में हीरो-हिरोइन , दो पेज में विलेन , तीन पेज में हीरो के माई-बाबु, और दो पेज में प्रदर्शनी डांस करने वाली लड़की या सी -ग्रेड हिरोइन , एक साइड में विलेन का बाप हिरोइन से ज़बरदस्ती करता हुआ ,और हाँ एक बात और इ फोटू- सोटू से कुछ नहीं होता भोजपुरी पोस्टर का जब तक पोस्टर के नीचे फिलिम के कम से कम ५ गाना का पहिला दो लाइन न हो , मतबल कुल मिलकर १० लाइन की जगह खली गाना खातिर । अब इ १० लाइन में कम से कम ४ लाइन ता डबल मीनिंग का हैबे करेगा न भाई । और साथ में मुझिक दिरेक्टेर का नाम और गाना लिखने वाले का नाम । कुल मिलाजुलाकर लगता है की दिरेक्टेर पूरा फिलिम्वा पोस्टर पे ही दिखने की तैय्यारी किया रहा लेकिन थोडा सा जगह कम पद गया , इसलिए पूरा फिलिम देखे करतीं सलीमा हाल के अंदर जाएके पड़ी .....

तो ये था भोजपुरी पोस्टर का सफ़र अगले भाग में हम पुरानी ब्लैक एंड व्हाइट फिल्मो के पोस्टर की चर्चा करेंगे जिसमे हीरो-हिरोइन गले में हाँथ डाले नज़र आते थे .......

2 comments:

डॉ. मनोज मिश्र said...

रउरा सही बतावत बानी.

Babli said...

बहुत सुन्दर लिखा है आपने और नयी जानकारी भी मिली ! अब अगले भाग का इंतज़ार रहेगा!
नववर्ष एवं नवरात्रि पर्व की हार्दिक शुभकामनाऎँ !