INDIA Blogger

Tuesday, April 14, 2009

"गली-गली सिम-सिम"

ख़त्म हो गया प्रसार प्रचार ......पहले चरण का मतदान कल ............ सभी प्रत्याशी घर घर जाकर मांग रहे है वोट .....

मेरे कैमरे ने मुझसे कहा फैज़ कल हमारी गली में एक प्रत्याशी आए थे ...वो हमसे वोट की अपील कर रहे थे । कह रहे थे हमें वोट दीजिये हम आपके सपनो का भारत आपको देंगे ....तभी किसी युवा की आवाज़ आई महोदय पिछली बार भी आप आए थे आप ने वोट माँगा था ....हमने दिया भी पर क्या हुआ ....क्या हमारे सपनो का भारत आप हमें दे पाए । तभी किसी ने उसे चुप करा दिया ...तो नेता जी बोले नही नही उसे बोलने दीजिये सही कह रहा है ...फिर उस युवा ने कहना शुरू किया ....आपने नौकरी दिलाने के वादे किए थे सब के सब धरे के धरे रह गए ....हमारे शहर की गलियां वैसे ही बज बजा रही है जैसे पहले थी ...तो फिर क्यों हम आप को वोट दे ....

अब बारी नेता जी की थी ...वो थोड़ा सोच के बोले...हमने सभी कामो को अमली जमा पहनने की कोशिश की लकिन राज्य सरकार हमारे कामो में रोड़ा अटकाती रही ...फिर क्या था फूट पड़ा युवाओ का गुस्सा ....नेता जी के समर्थक युवाओं शांत कराने लगे ......और फिर जो होता है वो तुम भी जानते हो फैज़ ...नेता जी को सर पर पैर रख कर भागना पड़ा ....

लकिन किसी ने सच ही कहा है की ...भारत के कर्ण धार है ये युवा अगर ये जाग गए तो फिर भारत को तरक्की करने से कोई रोक नही सकता । शायद इन युवाओं की शक्ति को पहचान कर ही दुष्यंत कुमार जी ने ये बात कही है ........

इस नदी के धार में ठंडी हवा आती तो है,

नाव जर्जर ही सही लहरों से टकराती तो है।

एक चिंगारी कही से ढूंढ लाओ दोस्तों,

इस दिए में तेल से भीगी हुई बाती तो है।...........

तो दोस्तों अब जाग जाओ क्योंकि चुनाव कल है दिल खोल के मतदान करो.........

5 comments:

Science Bloggers Association said...

अगले पांच सालों तक बेवकूफ बनाने के लिए इतना सब तो करना ही पडेगा।
----------
तस्‍लीम
साइंस ब्‍लॉगर्स असोसिएशन

Harsh said...

yah post achchi lagi....chunav ka dangal hai bhai ... aap bhee isse achoote nahi hai...aapke varansi me kaun jeet raha hai? varansi par maine ek story ki hai... mere blog par aakar usko pade aur apne comment dijiye.....

kashif said...

shabash sameer tum isi tarah dil laga k kaam karte raho insha allah qamyabi tumhare kadam chumegi yasir haider & kashif

kashif said...

waqt ki sachchai likhi hai tumne

Babli said...

बहुत बढिया!! इसी तरह से लिखते रहिए !